आप मेरे पिता की तरह: मोदी

मोदी ने प्रणब को लिखे लेटर में कहा नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को एक इमोशनल लेटर लिखा है, जिसमें मोदी ने कहा है, "प्रणब दा, हमारी राजनीतिक यात्राओं ने अलग-अलग राजनीतिक दलों में आकार लिया, एक वक्त हमारी विचारधारा भी अलग थी, लेकिन आप हमेशा मेरे लिए एक पिता और सलाहकार की तरह रहे।" मोदी का यह लेटर प्रणब ने ट्वीट किया है। - प्रणब मुखर्जी ने मोदी का यह इमोशनल लेटर गुरुवार को अपने ट्विटर अकाउंट में पोस्ट किया। प्रणब ने इस लेटर के साथ अपने कमेंट में कहा, "राष्ट्रपति ऑफिस में मेरे आखिरी दिन मुझे ये लेटर पीएम नरेंद्र मोदी की तरफ से मिला, जिसने मेरे दिल को छू लिया। आप सभी से शेयर कर रहा हूं।" - मोदी ने अपने लेटर में प्रणब को गर्मजोशी भरा, स्नेही और सबका ध्यान रखने वाला शख्स बताया है। मोदी ने लेटर में क्या लिखा है? - मोदी ने लेटर में लिखा है, "प्रणब दा हमारी राजनीतिक यात्राओं ने अलग-अलग राजनीतिक दलों में आकार लिया, एक वक्त हमारी विचारधारा भी अलग रही। फिर भी, आपकी समझ और ज्ञान का स्तर ऐसा है कि हम तालमेल के साथ मिलकर काम करने के काबिल बने।" - "तीन साल पहले, मैं नई दिल्ली में एक बाहरी के तौर पर आया था। मेरे सामने बड़ा काम और चुनौतियां थीं। उस वक्त, आप हमेशा मेरे लिए एक पिता और सलाहकार के तौर पर रहे।" आप ज्ञान का भंडार हैं - मोदी ने लेटर में लिखा है, "आपके (प्रणब) ज्ञान, मार्गदर्शन और ऊर्जा ने मुझमें ज्यादा आत्मविश्वास जगाया और मुझे ताकत दी। आप ज्ञान का भंडार हैं, यह सभी जानते हैं। आपके बौद्धिक कौशल ने लगातार मेरी और मेरी सरकार की मदद की।" - "आप उस पीढ़ी के नेताओं में से हैं, जिनके लिए राजनीति निस्वार्थ भाव से समाज को कुछ देने का एक जरिया रही। भारत को आप पर गर्व होगा, एक ऐसा राष्ट्रपति जो एक विनम्र लोक सेवक और एक असाधारण नेता था।" - समर्थन, प्रोत्साहन, मार्गदर्शन और प्रेरणा के लिए प्रणब का धन्यवाद करते हुए मोदी ने कहा कि आपकी विरासत से भारत को दिशा मिलती रहेगी। मोदी ने किया ट्वीट - मोदी ने गुरुवार को भी एक ट्वीट कर प्रणब की तारीफ की। मोदी ने लिखा, "प्रणब दा, आपके साथ काम करना मुझे हमेशा अच्छा लगेगा।" - बता दें कि प्रणब मुखर्जी (81) देश के 13वें राष्ट्रपति थे। इनका टेन्योर 2012 से 2017 तक रहा। प्रणब ने अपने जीवन का 60 साल से ज्यादा समय राजनीति में बिताया। देश के वित्त मंत्री भी रहे।

Leave a Comment