पहचानें घर के वास्‍तुदोष

वास्तुदोष जिस पर अक्सर लोगों का ध्यान नहीं जाता है लेकिन यह ऐसा दोष है जो आपकी तरक्की, खुशी और कामयाबी के बीच दीवार बनकर खड़ी हो जाती है। इसलिए इसकी पहचान बेहद जरूरी है। अगर आप अपने घर के वास्तुदोष को पहचान कर उसे दूर करने में सफल हो जाते हैं तो समझ लीजिए आपकी कामयाबी का रास्ता साफ हो गया। इन दिनों दीपावली भी आने वाली है तो ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि आप अपने घर को सजाते हुए वास्तु दोष भी दूर कर लें।

घर या दुकान के दरवाजे यदि चरमराकर आवाज के साथ खुल रहे हों तो ये एक बड़ा वास्‍तु दोष है। ऐसी आवाजें दरिद्रता लेकर आती हैं। इसे जल्‍द से जल्‍द ठीक कराएं।

घर या कार्यक्षेत्र में पूर्वी दीवार पर लकड़ी की वस्‍तुएं लगाना शुभ माना जाता है। इसमें लकड़ी के फर्नीचर, फोटो फ्रेम या कोई भी शो पीस हो सकता है।

घर में या आपके प्रतिष्‍ठान में पेड़ पौधों की सजावट अच्‍छी लगती है। मगर ध्‍यान रखें कि गलती से भी बेडरूम में पेड़-पौधे न रखें। घर में यदि कोई मरीज है तो उसके कमरे में खुशबूदार फूल रखना अच्‍छा होगा। घर के अंदर भूलकर भी कैक्‍टस नहीं लगाना चाहिए।

ध्‍यान रहे कि घर का मुख्‍य दरवाजा टूटा-फूटा या पुराना नहीं होना चाहिए। ऐसा होने पर घर के मालिक या मुखिया की सेहत ठीक नहीं रहती।

दुकान हो या फिर घर दरवाजे हमेशा अंदर की ओर खुलने चाहिए। ऐसा होने पर मां लक्ष्‍मी घर में प्रवेश करती हैं। यदि दरवाजे दो हों तो बाहर वाला बाहर और भीतर वाला भीतर खुले इस बात का ध्यान रखें।

पूजाघर में आप खुश्‍बूदार धूपबत्ती या अगरबत्ती अवश्‍य जलाएं। ऐसा करने से घर का वातावरण खुशनुमा रहता है और सकारात्‍मक ऊर्जा प्रवेश करती है। घर के किसी कोने में खुश्‍बूदार द्रव्‍य, मोमबत्तियां रखने या फिर एयरफ्रैशनर लगाने पर भी अच्‍छे परिणाम मिलते हैं।

Leave a Comment