DL बनाने में आधार नं. जरूरी, नहीं तो डिटेल एक्सेप्ट नहीं करेगा 'सारथी'

बीकानेर। परिवहन विभाग अब ड्राइविंग लाइसेंस बनाने में आधार नंबर जोड़ने की तैयारी में है। परिवहन विभाग के सारथी सॉफ्टवेयर में आधार नंबर को अनिवार्य विकल्प में शामिल कर दिया है। इससे वाहन चालकों की पहचान की जा सकेगी, साथ ही लाइसेंस बनवाने में धांधलियों पर भी लगाम लगेगी। इससे दो अलग-अलग जगह लाइसेंस बनवाने में भी रोक लग सकेगी। इन्हीं कारणों से अब लाइसेंस में आधार कार्ड का नंबर जोड़ने का फैसला लिया गया है। अब बगैर आधार कार्ड दिए लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया को कंप्यूटर आगे फॉरवर्ड ही नहीं करेगा। 

प्रदेश में लागू हुई इस व्यवस्था के बाद अब नए लाइसेंस के आवेदन व पुराने के रिन्युवल के समय चालक को आधार कार्ड की प्रति साथ लगानी होगी। फिर प्रदेश के परिवहन कार्यालयों में वाहन चालकों के लाइसेंस को आधार से लिंक किया जाएगा। बैकिंग व अन्य सेवाएं में अनिवार्यता के बाद सरकार की ओर से लाइसेंस में आधार कार्ड जोड़ने के फैसला काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इससे देश में कही भी किसी चालक की जानकारी आसानी से मालूम की जा सकेगी। सड़क हादसे में चालकों की डिटेल निकालने में आसानी होगी। बाद में पुराने लाइसेंस को भी आधार से जोड़ा जाएगा ताकि विभाग के पास रिकार्ड अपडेट हो सके।

दूसरा लाइसेंस पर लगेगी लगाम

लाइसेंस को आधार से जोड़ने का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि कोई वाहन चालक दो जगहों पर लाइसेंस नहीं बना पाएगा। कुछ लोग प्रमाण पत्रों में थोड़ा बहुत हेरफेर कर दो जगहों से लाइसेंस बनवा लेते है। अभी किसी जिले में वाहन चालक का लाइसेंस रद्द कर दिया जाता था तो वह दूसरे जिले में जाकर बनवा लेता था। यह व्यवस्था होने के बाद ऐसा कुछ नहीं हो पाएगा। आधार कार्ड से जुड़ने के बाद एक क्लिक पर चालक की पूरी डिटेल विभाग को मालूम चल जाएगा।

Leave a Comment