यहां की सैर किसी जन्नत से कम नहीं, एक बार जरूर देखें

ऊंचे-ऊंचे पहाड़, दिल लुभाते झरने, घने जंगल, उन सबके बीच काली-सफेद चट्टानें, दूर-दूर तक पसरा समुद्र तट, फूल-पत्तियां-टहनियां। ये देखकर प्रकृति की गोद में खो जाने का अहसास किसी जन्नत के अहसास कम नहीं। दुनिया भर में ऐसे कई देश हैं जहां ऐसे नजारों और अहसासों को पाना दुर्लभ नहीं, पर जब बात दक्षिण कोरिया की हो तो आप इन अहसासों और आसानी से पा सकते हैं। यह सही समय है जब दक्षिण कोरिया की सैर कर अपनी यात्रा डायरियों और रोमांचक अनुभवों की कड़ी में एक और खास अनुभव जोड़ सकते हैं। इस देश की सांस्कृतिक विरासत भी समृद्ध रही है। यानी प्राकृतिक खूबसूरती के साथ-साथ यहां आप पारंपरिक और आधुनिक कला का खूबसूरत मेल भी देख सकते हैं। दक्षिण कोरिया को दुनिया के कुछ बेहतरीन हनीमून पड़ावों में से एक माना जाता है। आइए, अब जान लेते हैं यहां के कुछ अन्य महत्वपूर्ण स्थलों के बारे में और कर लें उस जगह की एक छोटी सैर...

सियोल

यह दक्षिण कोरिया की राजधानी है और इस देश का राजनीतिक और आर्थिक केंद्र भी। यहां आप मन को सुकून देने शांति के साथ शहर की नाइट लाइफ का भी भरपूर लुत्फ उठा सकते हैं। यहां पर आपको आधुनिक और प्राचीन कोरिया की संस्कृति के मेल का खूबसूरत नमूना दिखाई देगा। यही एक खास बात है जो सियोल को विशेष बनाता है। यहां के कुछ स्थान यूनेस्को विश्व विरासत सूची में शामिल हैं। चेंजदिओक पैलेस, हवासोंस फोर्टरेस, जोंगम्यो शीरिन और जोसियन डिनेस्टी का राजसी मस्जिद ऐसे कुछ नाम हैं, जिन्हें यूनेस्को ने विश्व विरासत की सूची में रखा है। यहां की मुख्य रौनक स्ट्रीट फूड भी है, जो सड़क किनारे लंबी कतारों में चमकीली रोशनियों के बीच शहर की शोभा बढ़ाने का काम करते हैं। इस कारण इस शहर को ‘होम ऑफ स्ट्रीट फूड’ भी कहा जाता है। सियोल शहर दुनिया भर में एक शैक्षणिक केंद्र के रूप में मशहूर है। अपनी अलग शैक्षणिक प्रणाली और बौद्ध मठों के लिए भी इस शहर को पसंदीदा पड़ाव माना जाता है। इसे अलावा, यहां यूथ कल्चर भी शानदार है। मिली-जुली संस्कृति और आधुनिक तकनीक से बनी इमारतें इसकी शान हैं। कोरिया फाइनेंस बिल्डिंग, एन सियोल ऑवर, द वल्र्ड ट्रेड सेंटर और सेवन स्काइस्क्रेपर रेजिडेंस टॉवर पैलेस शहर के मुख्य आकर्षण हैं, जो पर्यटकों का अपनी ओर लुभाते हैं।

ह्यूंडइ तट, बुसान

बुसान एक तटीय इलाका है, जो कई तटों से घिरा है। इसी में से एक है ह्यूंडइ तट। केवल गर्मियों में ही नहीं, बल्कि यहां आप सर्दी के मौसम में आएं तो भी इस जगह की खूबसूरती का पूरा आनंद उठा सकते हैं। सर्दियों के मौसम में टहलने के लिए यह बहुत मुफीद जगह है। यहां वर्ष भर कुछ न कुछ आयोजन होते रहते हैं। डोंगबीकसियोम द्वीप इसके दक्षिण किनारे पर बसा है। इसका नजारा आप कार से भी कर सकते हैं। फिशिंग यानी मछली पकड़ने के लिए भी यह जगह काफी प्रसिद्ध है। बुसान में स्थित इस द्वीप पर जो सबसे खास गतिविधि है वह है सूर्योदय का पहला नजारा। साल की पहली तारीख को दुनिया के अलग-अलग इलाकों से लोग इस नजारे को देखने यहां आते हैं।

एशिया के ऐसे नेचुरल वंडर जहां छिपे हैं कई अद्भुत रहस्य, नजारे देख रह जाएंगे दंग

जियोंंगजू

उत्तरी उलसन और बुसान के दक्षिणी-पूर्वी इलाके में बसा है यह छोटा-सा शहर। इस शहर को आमतौर पर एक ऐसा म्यूजियम कहा जाता है, जिसमें दीवारें न हों। दरअसल, यहां पर बड़ी संख्या में ऐतिहासिक स्थल हैं, जहां देखने-समझने को काफी कुछ है। बुल्गस्का मंदिर पूरे कोरिया में प्रसिद्ध है, यहीं स्थित है। इसमें एक बार कागज के रुपये को मड़वा दिया गया था। कहा जाता है कि यह पुराना पांच सौ का नोट था। यह मंदिर कोरियाई बुद्धिस्ट स्थापत्य का एक शास्त्रीय नमूना है। यदि आप यहां आने को इच्छुक हैं तो कोशिश कीजिए कि सुबह तड़के आएं। आप पाएंगे यह एक मास्टर पीस है, जो दुनिया में दूसरी और कम जगह देखने को मिल सकती है। दरअसल, यह आठवीं सदी का कला नमूना है जिसे सिला राजवंश में बनाया गया था। बसंत के मौसम में इसका नजारा और सुंदर जान पड़ता है। चेरी के पेड़ यहां की मुख्य गलियों में बहुतायत मिल जाते हैं।

जाजू द्वीप

जेजुडो या जाजू द्वीप ‘आइलैंड ऑफ गॉड्स’ के नाम से भी मशहूर है। कोरिया के साथ-साथ यहां अलग-अलग देशों से आए विदेशी पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है। कोरिया के नवविवाहित युगलों के लिए सबसे प्रिय हनीमून पड़ाव रहा है। ज्वालामुखी प्रदेश होने के कारण यहां मिलने वाले काले-काले पत्थर, अक्सर होने वाली बारिश और एक समान मौसम रहने के कारण यह यूएस के हवाई आइलैंड की तरह पसंदीदा हनीमून पड़ाव है। इस नैसर्गिक सुंदरता वाले पड़ाव पर आकर कई सुंदर गतिविधियां भी होती हैं, जो पर्यटकों को अपनी ओर खींचने के लिए काफी है। मसलन, हल्ला सैन जो कि दक्षिण कोरिया का सबसे ऊंची चोटी मानी जाती है वहां की चढ़ाई, समंदर के तट पर सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा, झरनों की कल-कल आवाज और उन्हें दूर से निहारने का जादुई अहसास। 

केवल इतना ही नहीं, इन सबके अलावा ऐसी कई चीजें हैं, जो दक्षिण कोरिया की तरफ आपको रुख करने के लिए बाध्य कर सकती हैं। यदि आप प्रकृति प्रेमी के साथ संस्कृति और इतिहास आदि को जानने-समझने में रुचि रखते हैं, तो यहां के म्यूजियम आपका ध्यान खीचेंगे। जेजू एजुकेशन म्यूजियम, जेजू इंडिपेंडेंस म्यूजियम, फॉकलोर और नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम जाकर अपनी जानकारी में इजाफा कर सकते हैं। पार्क और गुफाओं के खूबसूरत नजारों के लिए इस जगह का कोई जवाब नहीं, तो देर किस बात की। जल्दी बनाइए योजना जाजू द्वीप के सैर की।

कुदरती खूबसूरती का खजाना है ये नेशनल पार्क, यहां की सैर आपके लिए होगी पैसा वसूल

सियोरक्सन नेशनल पार्क

ताइबेक पर्वत शृंंखला में सियोरक्सन सबसे ऊंची पर्वत चोटी है। यह दक्षिण कोरिया के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित गंगवोन प्रांत में स्थित है। यह नेशनल पार्क हर साल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। पतझड़ के समय में यहां भारी संख्या में पर्यटक आते हैं। पतझड़ के रंगों से सराबोर इस जगह को कोरिया के कुछ खास पर्यटन स्थलों में से एक माना जाता है। लाल और पीले पत्तों से भरे जंगल जिसमें बीच-बीच पत्थरों की कलाकृतियां, छोटे-छोटे पर्वत और नदियां मिलती हों, ऐसे नजारों में भला कौन नहीं गुम हो जाना चाहेगा। इस जगह पर कुछ मशहूर मंदिर भी मिलते हैं। इसमें बीकडैम-सा प्रमुख है। कुछ दूसरे स्थल जो इसे खास बनाते हैं वे हैं, सियोरेक का बाहरी इलाका और दक्षिणी सियोरेक। इन्हें डेचियोंग-बोंग, सियोरेक सेन की मुख्य चोटी अलग करती है।

Leave a Comment