पहले नवरात्र दो देवियों की एक साथ पूजा, घर-घर हुई घटस्थापना

जयपुर@ जागरूक जनता। शारदीय नवरात्र आज से शुरू हाे गए। घरों और मंदिरों में घटस्थापना की गई। जयपुर में आमेर में शिलामाता मंदिर में श्रद्धालु अलसुबह ही मां के दर्शनों के लिए पहुंच गए। कोई पैदल यात्रा करते हुए पहुंचा तो कोई दंडवत देते हुए मंदिर पहुंचा। मंदिर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए छाया पानी की व्यवस्था की गई है।

आज पहला और दूसरा नवरात्र एक साथ हैं। आज के दिन दो देवियों की एक साथ पूजा होगी। सुबह 6.22 बजे से 7.25 बजे तक प्रथम नवरात्र और इसके बाद द्वितीय नवरात्र शुरू हो जाएगा। भक्तजन आगामी नौ दिनों तक मां भगवती की पूजा कर उनकी कृपा प्राप्त करेंगे। शारदीय नवरात्र 10 से 19 अक्टूबर तक रहेंगे। 18 अक्टूबर को अंतिम नवरात्रि होगी।

साल में चार नवरात्र होते हैं, जिनमें से दो गुप्त नवरात्र होते हैं। लेकिन चैत्र और आश्विन माह के शारदीय नवरात्र ही ज्यादा लोकप्रिय हैं। आश्विन नवरात्र को महानवरात्र कहा जाता है। इसका एक कारण यह भी है कि ये नवरात्र दशहरे से ठीक पहले पड़ते हैं।

नवरात्र पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्व है। नवरात्र के नौ दिनों में मां के अलग-अलग रूपों की पूजा को शक्ति की पूजा के रूप में भी देखा जाता है।

Leave a Comment