2018 में चीन की विकास दर 6.6% रही, यह 28 साल में सबसे कम

बीजिंग. चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही। बीते 28 साल में यह सबसे निचले स्तर पर है। 2017 में विकास दर 6.8% रही थी। नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टेटिसटिक्स (एनबीएस) ने इस बात की जानकारी दी। चीन पर कर्ज के बोझ और अमेरिका के साथ चल रहे ट्रेड वॉर को इसकी वजह बताया जा रहा है।

बीते तीन महीनों में विकास दर कम रही

एबीएस के कमिश्नर निंग जिझे ने बताया कि चीन इस वक्त वित्तीय जोखिमों को रोकने, गरीबी हटाने और प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए तीन अहम मोर्चों पर लड़ रहा है। उधर, पिछले हफ्ते चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग ने भी धीमी वृद्धि दर को लेकर संकेत दिया था कि सरकार अर्थव्यवस्था को 'पहाड़ से गिरने' नहीं देगी।

बीते साल अमेरिका के साथ चीन का ट्रेड वॉर भी सुर्खियों में रहा। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चीन से आयात होने वाले करीब आधे सामानों पर शुल्क लगा दिया था। इसके बाद चीन ने भी अमेरिकी सामानों पर शुल्क लगाया। 

बाद में चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग और ट्रम्प तीन महीने के युद्धविराम पर राजी हो गए। समस्या का समाधान निकालने के लिए इसी महीने के अंत में वॉशिंगटन में दोनों देशों के अफसरों की बैठक होनी है।

वहीं, विश्लेषकों का कहना है कि गतिरोध ने आत्मविश्वास को कम किया। शेयर बाजारों को अपने हाल पर छोड़ दिया गया, जिससे युआन कमजोर हो गया। यही बढ़ते ऋण, वित्तीय जोखिम और प्रदूषण से निपटने के लिए सरकार की नीतियों में रुकावट डालता है।

बड़ी परियोजनाएं थमीं

चीन ने मेट्रो लाइनों और मोटरवे जैसी प्रमुख परियोजनाओं पर ब्रेक लगा दिया। साथ ही पिछले साल कर्ज लेकर पहाड़ पर चढ़ने वाले प्रयासों को भी रोक दिया। बुनियादी ढांचे के निवेश में पिछले साल के मुकाबले 19% से महज 3.8% का इजाफा हुआ। 

अमेरिका और दुनिया के लिए चीन का निर्यात भी दिसंबर में गिर गया, जिससे अर्थव्यवस्था को ईंधन देने के लिए घरेलू उपभोक्ताओं की आवश्यकता को बल मिला।

Leave a Comment