स्वाइन फ्लू के सवाल पर मंत्री रघु शर्मा बोले- मौतें पहली बार नहीं हो रहीं

जयपुर @ जागरूक जनता।. प्रदेश में स्वाइन फ्लू से सिर्फ जनवरी में ही 56 मौतें हो चुकी है। रोज 200 से 300 मरीज सामने आ रहे हैं। विभाग के अफसरों के पास जयपुर छोड़ गांव-शहरों में मर रहे लोगों को देखने तक जाने का समय नहीं है। बुधवार को 94 नए केस सामने आए। वहीं पॉजिटिव मामलों की संख्या 1508 तक पहुंच गई है।

उधर, चिकित्सा मंत्री भी स्वाइन फ्लू की इमरजेंसी के बीच रामगढ़ सीट के उपचुनाव में दो दिन से लगे हुए हैं। चुनावी रैलियों और सभाओं के बीच मंत्री पल-पल मॉनिटरिंग का दावा कर रहे हैं लेकिन स्वाइन फ्लू बेकाबू हो रहा है और सरकार के लिए गलफांस बन चुका है। आखिर ऐसे हालातों में मंत्री को क्या एक्शन लेना चाहिए और क्या वे सही रणनीति अपनाने में कामयाब रहे हैं? ऐसे ही कुछ तीखे सवाल चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा से भास्कर ने किए। चिकित्सा मंत्री ने कहा- मौतें पहली बार नहीं हो रही हैं। 26 को झंडारोहण करूंगा, उसके बाद प्रभावित क्षेत्रों का दौरा।

सवाल : आपके लिए स्वाइन फ्लू पर नियंत्रण जरूरी है या रामगढ़ चुनाव में सभाएं करना?

मंत्री : मैं पूरे प्रदेश का मंत्री हूं। कहीं भी रहूं स्वाइन फ्लू पर पल-पल नजर रखे हुए हूं। रामगढ़ में रह कर भी दो दिन से मॉनिटरिंग कर रहा हूं।

सवाल : 56 मौतें हो गई, आपने आज तक एक बार भी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा नहीं किया, क्या मंत्री की यही ड्यूटी है?

मंत्री : ये चार महीने मौसमी बीमारियों के होते हैं। पहली बार मौतें नहीं हो रही। मैंने रूट प्लान तय कर लिया है। 26 जनवरी को झंडारोहण करके प्रभावित सभी क्षेत्रों का दौरा करूंगा।

सवाल : आप तो नए मंत्री बने हैं, लेकिन आपके विभाग के एसीएस रोहित कुमार सिंह तक जयपुर में केवल कागजी आदेश जारी रहे हैं,  एक भी जगह का दौरा नहीं किया?

मंत्री : मैं दिखवाता हूं। मैं खुद जाऊंगा। हर प्रभावित जिले में। अफसरों की भी जिम्मेदारी तय की गई है। एक-एक मौत का कारण पूछा जाएगा।

सवाल : विधानसभा में स्वाइन फ्लू का मामला उठा तब भी आपने कह दिया कि लास्ट स्टेज पर सरकारी अस्पताल में मरीज आते हैं इसलिए मौतें हो रही है, क्या यह बयान जिम्मेदाराना है?

मंत्री : विधानसभा में विपक्ष राजनीति के लिए ऐसे दबाव बनाता है। हमने 29 दिसंबर को ही पद मिलने के बाद जोधपुर और पाली के लिए स्पेशल टीमें रवाना कर दी थी। मौतें घट रही हैं।

सवाल : आपके विभाग के अफसर रोज स्क्रीनिंग के नाम पर आंकड़े पेश कर रहे हैं, फिर भी मौतें हो रही और पॉजिटिव बढ़ रहे हैं, अगर समय पर स्क्रीनिंग करवाते तो मौतें नहीं होती?

मंत्री : हमने तीन दिन से स्वाइन फ्लू स्क्रीनिंग का महाअभियान पूरे प्रदेश में चला रखा है और उसे 25 तक बढ़ा दिया है। यह सही है कि ऐसा अभियान पहले चलाया जाना था। मुझे मंत्री बने हुए ही 15 दिन हुए हैं।

सवाल : आपने अफसरों को क्या-क्या जिम्मेदारी दी? देश में सर्वाधिक मौतें राजस्थान में हैं। अफसर और संबंधित डॉक्टर निष्क्रिय हैं?

मंत्री : हायर लेवल से आदेश दे दिए हैं। एक बार मौतों के आंकड़े कम होने दो। वरिष्ठ अफसरों से हर केस की जांच करवाई जाएगी।

Leave a Comment