हाईकोर्ट ने सांसद निहालचंद, पूर्व मंत्री जोगेश्वर और 16 आरोपियों को तलब किया

श्रीगंगानगर/ जयपुर@ जागरूक जनता. दुष्कर्म के बहुचर्चित 9 साल पुराने मामले में हाईकोर्ट ने पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और श्रीगंगानगर के सांसद निहालचंद मेघवाल, पूर्व मंत्री जोगेश्वर गर्ग सहित 18 को जवाब तलबी के लिए नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं।

अधीनस्थ न्यायालय द्वारा प्रकरण में एफआर स्वीकार करने के खिलाफ परिवादिया की ओर से लगाई प्रोटेस्ट पिटीशन की सुनवाई के दौरान न्यायाधीश केएस आहलूवालिया ने जवाब के लिए तलब करते हुए सुनवाई की अगली तारीख एक मई निर्धारित की है। परिवादिया ने वकील विजय यादव के जरिए प्रकरण में अधीनस्थ न्यायालय द्वारा एफआर स्वीकार करने और इसके खिलाफ लगाई उसकी निरानी याचिका एडीजे न्यायालय द्वार खारिज करने को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में पिटीशन दायर की हुई है।

याचिका में निहालचंद के अलावा पूर्व मंत्री जोगेश्वर गर्ग, ओमप्रकाश बिश्नोई, श्रीगंगानगर निवासी मनीष, पिंटू, कुलदीप सहित 18 को प्रतिवादी बनाया गया है। परिवादिया ने जयपुर के वैशाली नगर थाने में नवंबर 2011 में मुकदमा दर्ज करवाया था। इसमें उसने अपने पति ओमप्रकाश, निहालचंद, पूर्व मंत्री गर्ग के साथ ही राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष पुष्पेंद्र भारद्वाज, प्रकाश पुंज गर्ग, ओमप्रकाश, राधेराम गोदारा, सतीश सिंगोदिया, विवेकानंद, विकास अग्रवाल, अनिल राव (सहायक पुलिस आयुक्त), आरिफ, हरीश, कुलदीप हुंदल, भगवान, मनीष, पिन्टू एवं कुलदीप पर दुष्कर्म के आरोप लगाए थे।  

पीड़िता का आरोप था कि उसकी शादी 20 दिसंबर 2010 को हनुमानगढ़ जिला निवासी ओमप्रकाश से हुई थी। वह फरवरी 2011 में उसे जयपुर लाया और वैशाली नगर में रखा। वह उसे खाने-पीने की चीजों में नशीला पदार्थ मिलाकर दूसरे आरोपियों को सौंप देता और वे उसके साथ दुष्कर्म करते। उसे मानसरोवर के होटल मुस्कान पैलेस के साथ ही आधा दर्जन अन्य स्थानों पर रखा गया, आरोपियों ने उसके साथ कई जगह ले जाकर दुष्कर्म किया। परिवादिया की ओर से दायर इस्तगासे के आधार पर केस दर्ज हुआ था। पुलिस ने जांच के बाद प्रकरण जयपुर के अलावा हरियाणा के सिरसा जिले में भी दर्ज होने के आधार पर एफआर लगा दी थी।

Leave a Comment