चीन ने वीटो का इस्तेमाल कर मसूद को बचाया, भारत को मिला अमेरिका का साथ

जिनेवा। पुलवामा आतंकी हमले के दोषी मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के लिए भारत की कोशिशों को दुनिया के कई बड़े देशों का साथ मिला। संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद के सदस्य अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन ने पाकिस्तान से संचालित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव पेश किया था। 

हालांकि चीन ने एक बार फिर इसमें अड़ंगा लगा दिया। भारतीय समयानुसार बुधवार देर रात आयोजित संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की बैठक में चीन ने वीटो पावर का इस्तेमाल कर प्रस्ताव पर रोक लगा दी। ये चौथी बार है जब चीन ने इस तरह से मसूद को बचाया है। इस पर भारत ने आपत्ति जताई है।

भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि चीन के इस कदम से हम बहुत निराश हैं, लेकिन जिन सदस्य देशों ने हमारे समर्थन में प्रस्ताव दिया और उसका साथ दिया उन सभी को धन्यवाद। हम सभी उपलब्ध विकल्पों पर काम करते रहेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारतीय नागरिकों पर हुए हमलों में शामिल आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए। 

Leave a Comment